Title bahut us galii ke kiye hain re phere Film Non Film Music Director Lyricist Singers Saigal Lyrics

गाना / Title: बहुत उस गली के किये हैं रे फेरे – bahut us galii ke kiye hai.n re phere

चित्रपट / Film: गैर फिल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director: गीतकार / Lyricist: गायक / Singer(s): कुंदनलाल सैगल-(Saigal)


बहुत उस गली के किये हैं रे फेरे
यह जिनके लिये था, हुए वह न मेरे

पहुँचना उन्हें देखने की ललक में
कभी दिन ढला कर, किसी दिन सवेरे

(फिर उस देश में काहे) 
फिर उस देश में हो तो काहे को आना 
जहाँ चार दिन को लगाये हैं डेरे

सहारा नहीं रुत का, है क्या सुहाना
इस इक डाल पर हैं सभी के बसेरे

लगी जब से आँख आरज़ू की यह गत है
न सोना सवेरे न उठना सवेरे

Lyrics:
bahut us galii ke kiye hai.n re phere
yah jinake liye thaa, hue vah na mere

pahu.Nchanaa unhe.n dekhane kii lalak me.n
kabhii din Dhalaa kar, kisii din savere

(phir us desh me.n kaahe) 
phir us desh me.n ho to kaahe ko aanaa 
jahaa.N chaar din ko lagaaye hai.n Dere

sahaaraa nahii.n rut kaa, hai kyaa suhaanaa
is ik Daal par hai.n sabhii ke basere

lagii jab se aa.Nkh aarazuu kii yah gat hai
na sonaa savere na uThanaa savere

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *